DNA Full Form in Hindi : डीएनए क्या है , परिभाषा , फुल फॉर्म , पूरी जानकारी

आपने डीएनए का नाम तो जरूर सुना होगा . और उससे भी ज्यादा आपको DNA Test के बारे में तो पता ही होगा . क्योंकि अक्सर फिल्मों और सीरियल्स में इसका जिक्र हो ही जाता है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है, कि डीएनए आखिर होता क्या है, DNA Full Form in Hindi , DNA पाया जाता है , DNA इतना Important क्यों होता है ,डीएनए का फुल फॉर्म क्या है , डीएनए के प्रकार क्या है ?, डीएनए का खोज किसने किया ?, डीएनए के कार्य क्या है . अगर इन सारे सवालों के जवाब आप जाना चाहते हैं , तो इस लेख को अंत तक पढियेगा.

DNA क्या है ?

आप जानते ही हैं , कि हमारा शरीर सेल से मिलकर बना होता है. यानी की कोशिकाओं से मिलकर और हमारे शरीर की लगभग हर कोशिका में DNA यानी कि Genetic Code पाया जाता है. सिर्फ RBC  (Red Blood Cells) में DNA नहीं होता है. DNA ही  हमें हमारी पहचान देता है. DNA इतना महत्वपूर्ण इसीलिए होता है, क्योंकि इसमें हमारा विकास ,  हमारी Growth , Reproduction और कार्य के लिए निर्देश होते हैं.

डीएनए के प्रकार क्या है ?

अधिकांश DNA Nucleus में पाए जाते हैं, जिसे Nuclear DNA कहा जाता है . DNA का एक एक छोटा भाग Mitochondria में भी पाया जाता है ,  जिसे Mitochondrial DNA कहते हैं.

डीएनए का फुल फॉर्म क्या है ?

डीएनए की फुल फॉर्म “डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक एसिड” होती है.

DNA किसे मिल कर बन है ?

 यह जैविक अमल नाइट्रोजन चारों से मिलकर बनता है.  इंसानों में पाए जाने वाले डीएनए में लगभग 3 बिलियन बेसिस पाए जाते हैं . और DNA का लगभग 99% हर इंसान में सामान होता है.  डीएनए की लंबी जंजीर जैसा दिखने वाला अनु होता है.  जो जीव के अनुवांशिक विशेषताओं को Encode करता है.

हैरानी की बात यह है,  कि अगर हमारे शरीर में मौजूद सारे डीएनए को सुलझाया जाए तो , यह इतने लंबे होंगे कि सूरज तक पहुंचकर 300 गुना बार वापस धरती पर आ सकते है.

Gene क्या होते है और किसे बने होते है ?

जीन Heritage Material होता है , जो सेल Nucleus में पाया जाता है .  यह जींस DNA के बने होते हैं.

डीएनए संरचना का चित्र

DNA Full Form in Hindi
DNA Full Form in Hindi

DNA एक घुमावदार सीढ़ी नुमा आकृति बनाता है . और इसे Double Helix कहा जाता है. Nucleotides का Double Standard Polymer डीएनए होता है , लेकिन Single Stranded DNA भी पाए जाते हैं. हर Nucleotides में यह पाए जाते हैं .

Phosphate MoleculesSugar molecule जिसे Deoxyribose कहा जाता है .

नाइट्रोजन युक्त छार यानी Bases इसमें 4 बेसिस पाए जाते हैं.

  • Adenine (A)
  • Cystine (C)
  • Guanin (G)
  • Thaimine (T)

इन चारों Bases का  क्रम ही अनुवांशिक Code बनाता है,  जो जीवन के सभी जरूरी कामों को करने के लिए हमें निर्देश देते हैं. इन Bases के क्रम  को DNA Sequence कहा जाता है.

इस  Bases  में Adenine  Thaimine  के साथ और Guanin Cystine  के साथ Bond बनाता है. Bond के साथ यह Base एक Phosphate और  Pentose Sugar के साथ भी बंधा होता है. इसीलिए नाइट्रोजन बेस Phosphate और  Pentose Sugar से बने डीएनए को Nucleotide कहा जाता है.

DNA अपने Structure की हूबहू कॉपी बना सकता है. यानी डीएनए अपने जैसा नया डीएनए बना सकता है. यह प्रक्रिया Cell Division के लिए जरूरी भी होती है. अक्सर डीएनए से बना हुआ नया DNA 100% उसके समान ही होता है. लेकिन कभी-कभी जब यह नया बना दिए ने पूरी तरह सामान नहीं हो पाता है.तो शरीर में Harmful Mutations भी पैदा कर सकता है.

आप डीएनए कोई पेनड्राइव भी कह सकते हैं.  क्योंकि डीएनए हमारे शरीर की सारी जानकारी अपने अंदर स्टोर करके रखता है. और 1 ग्राम DNA 700 Terabyte की जानकारी Store कर सकता है. तो सोचिए अगर दुनिया भर की जानकारी को संग्रह  करना चाहे , तो आपको सिर्फ 2 ग्राम DNA की जरूरत पड़ेगी.

डीएनए का खोज किसने किया ?

 DNA को सबसे पहले जर्मन बायो केमिस्ट्री  Friedrich Miescher ने 1969 Observe किया. लेकिन बहुत सालों तक इस Molecule की Importance रिसर्च का ध्यान अपनी तरफ खींच नहीं पाई. लेकिन जब 1953 में James Watson  , Francis Crick , Maurice Wilkins और  Roslyn Franklin ने DNA का double Helix Structure खोज निकाला. तभी यह समझा जाने लगा , कि यह डीएनए Biological Information को संग्रह कर सकता है. इसके लिए Francis Crick और James Watson को 1962  में मेडिसिन का नोबेल प्राइज भी मिला.  DNA के मॉडल को Watson Crick Model के नाम से भी जाना जाता है.

डीएनए के कार्य (DNA Works)

DNA  Replication Transcription और Genetic Information को Transfer करने के महत्वपूर्ण काम करता है. Replication DNA के नकल करने की प्रक्रिया है. जिसमें डीएनए अपनी नकल करके अपनी जैसा दूसरा डीएनए बना लेता है. ऐसा होने से शरीर में Chromosomes की संख्या नियंत्रित रहती है. और Cell Division भी प्रेरित होता है. ट्रांसलेशन के जरिए DNA हमारे शरीर में मौजूद RNA का निर्माण करता है. Genetic Information को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर करना भी देने का बहुत ही Important काम होता है.

DNA Test क्या है ?

इसके बारे में जानते हैं, जिसके बारे में आपने काफी सुना है.  हर इंसान की डीएनए में उसकी हेरिटेज की जानकारी होती है. DNA Test या Genetic Test किसी Genetic Disorder का पता लगाने या  Genetic Mutation का पता लगाने के लिए किया जाता है. बच्चे में माता और पिता  दोनों की जींस होते हैं. और DNA Test के जरिए बच्चे के Parents का भी पता लगाया जा सकता है. DNA Test की मदद से किसी भी Criminal को पकड़ा जा सकता है.

डीएनए एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर होता है. और इस आधार पर DNA Testing के जरिए यह पता लगाया जा सकता है, कि आपके आने वाली Generation के बालों का रंग , आंखों का रंग कैसा होगा और इसके  साथ ही अगली पीढ़ियों में कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती है.  इसका पता भी लगाया जा सकता है.

DNA Test की मदद से New born babies में Genetic Disorder का पता लगाया जा सकता है.  ताकि समय रहते  ही उसका इलाज किया जा सके. इसके अलावा बच्चे की जन्म से पहले भी यानी की प्रेगनेंसी के दौरान भी Genetic Disorder का पता लगाया जा सकता है.

आजकल तो कुछ ऐसे नहीं टेस्ट भी हो रहे हैं, जिसमे  जिसमें यह भी पता लगाया जा सकता है, कि आपके पूर्वज दुनिया के किस कोने से आए थे. मतलब पूरे जन्म कहां से हुआ था.

खैर ऐसी  बहुत सारी जानकारियां और बहुत सारी रिसर्च आए DNA  से जुड़ी हुई आती रहती है. और अभी भी इस क्षत्र में काफी सारा काम किया जा रहा है और किया जाएगा. क्योंकि यह बहुत ही जटिल विषय है.

अन्य लेख :- 

Leave a Comment